दूर दूर तक हो रही मांग अरब देशो के अंगूर की ,क्या ख़ास है इन अँगुरो में,भारत के अंगूर पिछड़े

0
128

सऊदी अरब के ऐतिहासिक शहर ताइफ़ के अंगूरों की शोहरत काफी दूर-दूर तक की है खाड़ी देशों में काफी मशहूर है

एक लाख से ज्यादा अंगूर के पेड़ का उत्पादन खाड़ी देशों में भेजा जा रहा है।

सबक वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक देश के अंदर ताइफ़ के स्वादिष्ट अँगुर की मांग काफी ज्यादा बढ़ चुकी है ताइफ़ आने वाले लोग तोहफे के तौर पर खासतौर से अंगूर खरीदते हैं।

ताइफ़ में अँगुर के बागों के मालिक ने अंगूर की मार्केटिंग का खास अभियान शुरू किया है।

1166371 629285321

ताइफ़ के नागरिकों का कहना है कि यहाँ बाग लगाने वाले और उनकी देखभाल बहुत ही उत्सुकता के साथ कर रहे हैं।

ताइफ़ के नागरिकों का कहना है कि पर्यावरण मंत्रालय और जल कृषि मंत्रालय के द्वारा भी सिलसिले में काफी ज्यादा सहयोग हासिल हो रहा है।

grapss


स्थानीय लोगों का कहना है कि पूरे इलाके में शादी ब्याह के साथ विभिन्न तरह के समारोह की व्यवस्था की जाती है

तथा ताइफ़ के अँगुर दस्तरखान की शान बन जाते हैं।

ताइफ़ में अंगूरों के बागों का बड़े पैमाने पर सिलसिला करीब 7 दशकों पहले से बनू सआद के इलाके में है। इसके अलावा वादी मोहर्रम, पूर्व ताइफ़, के अल अर्ज़, बनी सालेम के गांव में अंगूर के बाग हर तरफ नजर आते हैं।

sabaqq

500 से ज्यादा बाग़ एक हज़ार टन से ज़्यादा अँगुर पैदा करते हैं।

यहां पर दो तरह के अंगूर पाए जाते हैं एक सफेद रंग का अंगूर होता है और दूसरा काला रंग का सफेद अँगुर ज्यादा लोकप्रिय है। इसके दाने काफ़ी बड़े होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!